Follow by Email

Friday, 25 November 2016

तुम्हारी मुस्कुराहट में जो नशा है !!



तुम्हारे चेहरे में जो बात है वो किसी चित्रकारी में कहाँ ,

तुम्हारी आँखों में जो अदाएं है वो किसी कलाकार में कहाँ। 

तुम्हारे दीवाने है हम तो खुदा कि कसम ,

तुम्हारी मुस्कुराहट में जो नशा है वो किसी शराब में कहाँ। 



Monday, 13 June 2016

सच्चा प्यार...!!!


सच्चा प्यार जब किसी को ज़िद्द लगने लगता है ,

तब वो प्यार बेबुनियाद लगने लगता है। 

जब प्यार में कोई नाप तोल करने लगता है,

तब वो प्यार बेतासिर लगने लगता है। 

न जाने प्यार की परिभाषा क्या है ,

अब तो प्यार भी बेक़दर लगने लगता है। 





Sunday, 13 March 2016

दोस्ती सवालों के घेरों में है...!!!



दोस्ती क्यों कुछ सवालों के घेरों में है ,

दोस्त क्यों नफ़रत के अँध्यारों में है। 

उसको क्यों फर्क नही पड़ता हमारे रूठने पर ,

दोस्त क्यों हमारा बेकसी में है।