Follow by Email

Thursday, 11 December 2014

तुम्हारे गुनेहगार कितने हैं...!!


आज आसमान में तारे कितने हैं ,

टूटते तारों के अरमान कितने है। 

अनजाने में हो गई खता हमसे ,

तुम्ही बताओ तुम्हारे गुनेहगार कितने हैं।