Follow by Email

Tuesday, 25 November 2014

एहसास नही होता...


अपने दूर चले जाते हैं एहसास नही होता ,

कुछ लोग करीब आ जाते है एहसास नही होता। 

मोहब्बत भी कितनी अजीब चीज़ है यारों ,

कब इसमें डूब जाते हैं एहसास नहीं होता। 




Hinglish Version:

apne door chale jaate hai ehsaas nhi hota

kuch log kareeb aajaate hai ehsaas nhi hota

mohabbat bhi ajeeb cheez hai yaaro

kab isme doob jaate hai ehsaas nhi hota

Tuesday, 11 November 2014

लोगों को अहमियत नही...


ज़िन्दगी की रफ़्तार में यूँ चला जा रहा हूँ ,

लोगों को अपना बनाते हुए अपनों को ही छोड़े जा रहा हूँ। 

क्यूँ लोगों को अहमियत नही मेरे जज़्बातों की ,

आवाज़ लगा कर क्यूँ रोका नही जा रहा हूँ।