Follow by Email

Monday, 17 February 2014

पागल है मेरा दिल …

तेरी आँखों के काज़ल से चमकता है मेरा दिल ,
तेरे घुंघरू कि खंकार से खनकता है मेरा दिल । 
समझाया है मैंने इस दिल को कई बार पर ,
तेरी नज़ाफ़त देख मचलता है मेरा दिल । 

तेरी मदमस्त नज़र से खिलता है मेरा दिल ,
तेरे गालों कि लाली से धड़कता है मेरा दिल । 
तेरे होठों कि जुस्तजु में खोता है मेरा दिल ,
इस दिल को कैसे समझाऊं क्यूँ तेरे लिए धड़कता है मेरा दिल । 

तेरे रूह कि खूशबू से मेहकता है मेरा दिल ,
तेरे चेहरे के नूर से खिलता है मेरा दिल । 
हुआ है पागल तेरे प्यार में मेरा दिल ,
अब तू ही बता कैसे संभालूं मेरा दिल । 

(Hinglish Version)

teri aankhon ke kajal se chamakta hai mera dil,
tere ghungroo ki khankaar se khankata hai mera dil. 
smjhaya ha maine iss dil ko kayi baar par,
teri nazafaat(purity) dekh, machalta hai mera dil. 

teri madmast nazar se khilta hai mera dil,
tere gaalon ki laali se dhadakta ha mera dil. 
tere hoton ki justuju mein khota hai mera dil,
iss dil ko kaise smjhaun kyun tere liye dhadakta hai mera dil. 

tere rooh ki khusbooo se mehakta hai mera dil,
tere chehre ke noor se khilta hai mera dil. 
hua hai pagal tere pyaar mein mera dil,
ab tu hi bta kaise sambhaloon mera dil!!