Follow by Email

Saturday, 14 December 2013

"चला था राहों में...."

चला था ख़ियाबां  में तन्हा ही ,
मोड़ पर  देखा तुझे तो सुकून आया।
इस डगर में सफ़र लगा आसान मुझे ,
तेरा साथ छूटा तो ज़हियान आया।
मिलेगी अगले मोड़ पर ये होसला था मुझे ,
हुआ सच ये अरमान तो जूनून आया। 

(chala tha khiyaabaan mein tanhaa hi
mod par dekha tujhe toh sukkoon aaya
iss dagar mein safar laga assaan mujhe
tera saath chootha toh zhiyaan aaya
milegi agale mod par ye hosla tha mujhe
hua sach ye armaan toh junnon aaya)


शब्दार्थ :-

"ख़ियाबां"- राह 
"ज़हियान"-गुस्सा