Follow by Email

Sunday, 21 May 2017

आपकी मुस्कराहट!!!


आपकी मुस्कराहट चेहरे का नूर बड़ा देती है ,

ना जाने कितने दिलों को जोड़ जाती है। 

ये सेहर है आपकी मुस्कुराहट का ए-हसीना ,

ना जाने कितने आशिक़ों को तड़पा कर चली जाती है। 

Friday, 25 November 2016

तुम्हारी मुस्कुराहट में जो नशा है !!



तुम्हारे चेहरे में जो बात है वो किसी चित्रकारी में कहाँ ,

तुम्हारी आँखों में जो अदाएं है वो किसी कलाकार में कहाँ। 

तुम्हारे दीवाने है हम तो खुदा कि कसम ,

तुम्हारी मुस्कुराहट में जो नशा है वो किसी शराब में कहाँ। 



Monday, 13 June 2016

सच्चा प्यार...!!!


सच्चा प्यार जब किसी को ज़िद्द लगने लगता है ,

तब वो प्यार बेबुनियाद लगने लगता है। 

जब प्यार में कोई नाप तोल करने लगता है,

तब वो प्यार बेतासिर लगने लगता है। 

न जाने प्यार की परिभाषा क्या है ,

अब तो प्यार भी बेक़दर लगने लगता है। 





Sunday, 13 March 2016

दोस्ती सवालों के घेरों में है...!!!



दोस्ती क्यों कुछ सवालों के घेरों में है ,

दोस्त क्यों नफ़रत के अँध्यारों में है। 

उसको क्यों फर्क नही पड़ता हमारे रूठने पर ,

दोस्त क्यों हमारा बेकसी में है।